career can be strengthened by studying in mobile robotics, there is a lot of demand in this field.


कोरोना महामारी से निपटने के लिए दुनिया भर के देश टीके के साथ नई तकनीक पर काम कर रहे है। इसमें एक नई तकनीक तेजी से उभर कर सामने आई है, वह है मोबाइल रोबोट। इनका उपयोग मरीजों की देखभाल, इलाज के दौरान जरूरी चीजों की आपूर्ति, शारीरिक दूरी का पालन कराने समेत कई जगहों पर काम लिया जा रहा है। स्वास्थ्य देखभाल और पुलिस निगरानी में इन दिनों मोबाइल रोबोट का इस्तेमाल बढ़ गया है। देश की कई कंपनियों ने इस क्षेत्र में निवेश की घोषणा की है। ऐसे में इस क्षेत्र में आने वाले समय में करिअर की नई संभावनाएं सामने आएगी।

मोबाइल रोबोटिक्स
यह एक आटोमैटिक मैकेनिकल उपकरण है जो कंप्यूटर प्रोग्राम या इलेक्ट्रॉनिक मशीनों की मदद से वो काम करता है, जिसे करने के लिए कहा जाता है। यह एक ऐसा तंत्र है जिसमें सेंसर, नियंत्रण तंत्र, मेनुपुलेटर्स, बिजली आपूर्ति और सॉफ्टवेयर सभी चीजें होती हैं। रोबोटिक्स में अगर पढ़ाई की बात करें तो यह मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस का एक हिस्सा होता है।

इन इंजीनियरिंग के ब्रांच में रोबोट के डिजाइन, निर्माण, बिजली आपूर्ति, इंफोर्मेशन प्रोसेसिंग और सॉफ्टवेयर पर काम होता है। अब छोटे और चलने-फिरने वाले रोबोट का प्रचलन बढ़ रहा है, इसलिए अब उसे मोबाइल रोबोटिक्स कहते हैं।

रोबोट का इस्तेमाल अलग-अलग क्षेत्रों में किया जा रहा है। औद्योगिक रोबोट, व्यक्तिगत रोबोट, चिकित्सा उपयोग के लिए रोबोट और आटोनोमस रोबोट श्रेणी में उपयोग हो रहा है। इनमें सबसे बड़ी श्रेणी औद्योगिक रोबोट की होती है, जो साधारण प्रोग्राम योग्य रोबोट होते हैं, जिनका इस्तेमाल निर्माण इकाई में किया जा रहा है। उद्योगों में रोबोट का उपयोग निर्माण प्रक्रिया को तेज करने के लिए किया जाता है।

औद्योगिक रोबोट द्वारा वेल्डिंग, पेंटिंग और मशीनों में कलपुर्जे लगाने का काम किया जाता है। रोबोट असेंबलिंग, कटिंग और आॅटोमोबाइल्स के विभिन्न भाग को लगाने का काम भी बड़ी कुशलता और दक्षता से करते हैं। परमाणु और तापीय ऊर्जा स्टेशनों पर खतरनाक एवं जोखिम वाले तत्वों की साज-संभाल रखरखाव में भी इंसानों के बजाय रोबोट का प्रयोग बढ़ा है। अब सैन्य कार्रवाइयों में भी रोबोट दिखाई देने लगे हैं।

इन्हें परमाणु विज्ञान, समुद्र अन्वेषण, इलेक्ट्रिकल सिग्नल्स की ट्रांसमिशन सर्विस, बायोमेडिकल उपकरण की डिजाइनिंग आदि के लिए भी उपयोग में लाया जाता है। जिस तरह दिन-प्रतिदिन रोबोट की मांग बढ़ती जा रही है, उसे देखते हुए मोबाइल रोबोटिक्स एक शानदार एवं चमकदार करिअर बनता जा रहा है।

योग्यता
विज्ञान विषयों से 12वीं पास करने वाले उम्मीदवार मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर साइंस जैसे पाठ्यक्रमों में इसकी पढ़ाई कर सकते हैं। वहीं, स्नातक डिग्री हासिल करने के बाद रोबोटिक्स में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम कर सकते हैं। रोबोटिक्स के क्षेत्र में करिअर बनाने के लिए इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल और कंप्यूटर साइंस की अच्छी जानकारी या डिग्री जरूर होनी चाहिए।

रोबोटिक एक तरह से लंबी अवधि का शोध आधारित पाठ्यक्रम है। इस क्षेत्र से जुड़े कुछ विशेषज्ञता हासिल करने वाले पाठ्यक्रम भी कर सकते हैं, जैसे कृत्रिम बौद्धिमत्ता (एआइ), रोबोटिक्स, एडवांस, रोबोटिक्स सिस्टम आदि। इस तरह के पाठ्यक्रम कई इंजीनियरिंग कॉलेज आफर कर रहे हैं। इसके अलावा विशेषज्ञता के लिए स्नातकोत्तर स्तर के पाठ्यक्रम भी कर सकते हैं। सामान्यत: रोबोटिक्स के लिए बीटेक या बीई कंप्यूटर, आइटी, मैकेनिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स और इलेक्ट्रिकल का पाठ्यक्रम होता है।

आइआइटी दिल्ली, कानपुर, बॉम्बे, चेन्नई, खड़गपुर, गुवाहाटी और रुड़की सहित कई इंजीनियरिंग संस्थानों द्वारा रोबोटिक्स में कार्यक्रम संचालित किए जाते हैं।

रोजगार और नौकरी
इस क्षेत्र में प्रशिक्षित पेशेवरों की मांग तेजी से बढ़ रही है। भेल, बीएआरसी और सीएसआइआर नए स्नातक विद्यार्थियों की नियुक्ति बतौर वैज्ञानिक करते हैं। आप चाहें तो स्नातकोत्तर स्तर पर विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं। माइक्रोचिप निर्माण के लिए इंटेल जैसी कंपनी में बतौर रोबोटिक्स और कृत्रिम बौद्धिमत्ता विशेषज्ञ के तौर पर नियुक्ति करती है।

इसके अलावा, इसरो और नासा में भी मोबाइल रोबोटिक्स के विशेषज्ञों की नियुक्तियां की जाती हैं। वैसे, इस क्षेत्र में इलेक्ट्रिक व इलेक्ट्रॉनिक्स, मैकेनिकल और कंप्यूटर एंड सॉफ्टवेयर फील्ड से जुड़े लोगों की जरूरत अधिक होती है। निजी क्षेत्र में बेहतरीन वेतन की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।

मोबाइल रोबोटिक्स एक उभरता हुआ क्षेत्र है। इसलिए यहां रोजगार के नए नए और बेहतरीन अवसर उपलब्ध हैं। मोबाइल रोबोटिक्स में करिअर बनाने वाले या तो औद्योगिकी रोबोट के निर्माण या विशेष उपयोग के लिए रोबोट के क्षेत्र जैसे कि बम निष्क्रिय करने के काम और अन्य सुरक्षा कार्यों में रोबोट के उपयोग से संबंधित कार्य कर सकता है। मोबाइल रोबोट से वैक्यू क्लीनिंग जैसे घरेलू काम भी किए जा सकते हैं।
– नरेंद्र कुमार मोहापात्रा
(सीईओ, इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर स्किल काउंसिल)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। में रुचि है तो




सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई


This article was written by kk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *